shooter-vartika-singh-smriti-irani

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी और उनके सहयोगियों पर भ्रष्टाचार और लूस टॉक करने का आरोप लगाने वाली अंतरराष्ट्रीय शूटर वर्तिका सिंह की मुश्किलें बढ़ती जा रही है. हाई कोर्ट के वकील कालिका प्रसाद मिश्रा ने सूचना प्रौद्योगिकी (अधिनियम) 67 के तहत मुकदमा दर्ज कराया है.

मिश्र का कहना है कि वर्तिका सिंह, सांसद और उनके प्रतिनिधि की छवि को खराब कर रही हैं। वकील कालिका प्रसाद मुंशीगंज थाना क्षेत्र के दलशाहपुर गांव के रहने वाले हैं.

गौरतलब है कि वर्तिका सिंह ने केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी और उनके निजी सचिव विजय गुप्ता पर 25 लाख की रिश्वत मांगने का आरोप लगाया था. इस संबंध में उन्होंने कोर्ट में वाद भी दायर किया था। जिस पर दो जनवरी को सुनवाई तय है.

23 अक्टूबर को मंत्री के सचिव ने दर्ज कराया था केस
इससे पहले स्मृति ईरानी के निजी सचिव विजय गुप्ता ने वर्तिका सिंह व कमल किशोर कमांडो पर 23 अक्टूबर को मुसाफिरखाना कोतवाली में केस दर्ज कराया था. विजय गुप्ता का आरोप है कि वर्तिका ने कूट रचना कर पत्र लिखकर मेरे विरूद्ध निराधार व असत्य आरोप लगाकर मानसिक रूप से परेशान करने व सामाजिक छवि को क्षति पहुंचाने का प्रयास किया. जिसकी जांच अति आवश्यक है. उन्होंने कमल किशोर कमांडो नाम के व्यक्ति पर भी आरोप लगाया था कि उसने भी सोशल मीडिया पर तथ्यों को जाने बगैर फर्जी तरीके से कुछ चीजें वायरल कर सामाजिक छवि को खराब करने का प्रयास किया.

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने भी दिया जबाब
इस पुरे मामले में अपने तीन दिवसीय दौरे पर अमेठी आयी केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने भी जबाब देते हुए कहा था कि “तीनों FIR फर्जी हैं. यह सब कांग्रेस द्वारा किया जा रहा है. भारत सरकार के उपक्रम के आधार पर तीन फर्जीवाड़े के दस्तावेज लिखे गए. इस महिला पर पहले भी दो संदिग्ध मामलों में अयोध्या और लखनऊ में FIR दर्ज हैं. उन्होंने कहा कि भले ही अमेठी कांग्रेस पार्टी गढ़ रहा था, लेकिन कांग्रेस ऐसे प्यादों को न खड़ा करे, जिनका डायरेक्ट संबंध कांग्रेस से है.”